The Upwale Home Online Tutorials Earn Money Blogger Blogging YouTube

AarogyaSetu App क्या है। इसका इस्तेमाल कैसे करते है।

Coronavirus से इस समय दुनियाभर के लोग परेशान हैं। इस पर काबू पाने के लिए भारत में पू्र्ण रूप से लॉकडाउन कर दिया गया है। इससे संबंधित कई हेल्पलाइन और वेबसाइट्स भी पेश की गई है
जो आपको इस वायरस के बारे में अपडेटेड रखेंगी।

वहीं, अब भारत सरकार ने AarogyaSetu नाम की एक Coronavirus ट्रैकिंग ऐप लॉन्च कर दी है।
आरोग्य सेतु एप के लॉन्च होने के कुछ ही समय में एक करोड़ से अधिक लोगों ने इसे डाउनलोड किया है.

सरकार का यह एप लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण के खतरे और जोखिम का आकलन करने में मदद करता है. एंड्रॉयड और आईफोन दोनों तरह के स्‍मार्टफोन पर इसे डाउनलोड किया जा सकता है.

यह खास एप आसपास मौजूद कोरोना पॉजिटिव लोगों के बारे में पता लगाने में मदद करेगा.तो चलिए जानते है आरोग्यसेतु काम कैसे करता है।

कोरोना ट्रैकिंग एप आरोग्‍य सेतु का कैसे इस्‍तेमाल करें?(how to use coronavirus tracking app aarogyasetu)

AarogyaSetu App download

अपने फोन पर आरोग्‍य सेतु एप को डाउनलोड करें

आरोग्य सेतु एप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों पर उपलब्ध है. इसे आप गूगल प्ले स्टोर के जरिये डाउनलोड कर सकते है. सुनिश्चित करें कि आरोग्‍य (Aarogya) और सेतु (Setu) के बीच कोई स्थान(Space) नहीं हो या फिर एप खोजने के लिए सर्च बार में 'AarogyaSetu' टाइप करें. 

एप को खोलें और अपनी पसंद की भाषा चुनें

अंग्रेजी और हिंदी समेत आरोग्‍य सेतु एप 11 भारतीय भाषाओं में उपलब्‍ध है. इंस्‍टॉल करने के बाद एप को खोलें और अपनी पसंदीदा भाषा को चुनें.

AarogyaSetu App bhasha chunaav

आपके सामने ऐप परमीशन्स का पेज ओपन होगा। इसमें आपको नीचे दिए गए I Agree पर टैप करना होगा। इसके बाद जो पेज ओपन होगा उसमें आपको Register Now पर टैप करना होगा।

AarogyaSetu App permission


आरोग्‍य सेतु एप को ब्‍लूटूथ और जीपीएस डेटा की जरूरत पड़ेगी. एप को काम करने के लिए इसकी अनुमति दें. आरोग्य सेतु कॉन्‍टैक्‍ट ट्रेसिंग के लिए आपके मोबाइल नंबर, ब्लूटूथ और लोकेशन डेटा का उपयोग करता है और बताता है कि आप कोरोना के जोखिम के दायरे में है या नहीं।

अपने फोन को रजिस्‍टर करें

AarogyaSetu App no. Verification

एप तभी काम करता है जब आप अपने मोबाइल नंबर को रजिस्‍टर करते हैं और ओटीपी से उसे वेरिफाई करते हैं. एक वैकल्पिक फॉर्म भी आता है जो नाम, उम्र, पेशा और पिछले 30 दिनों के दौरान विदेश यात्रा के बारे में पूछता है. आप इस फॉर्म को स्किप कर सकते हैं. हालांकि, अगर आप जरूरत के समय में वॉलेंटियर यानी स्वयंसेवक बनने की इच्छा रखते हैं तो आपके पास खुद को इसमें नामांकित करने का विकल्प है।

ऐसे दिखाता है ख़तरा

AarogyaSetu App

एप हरे और पीले रंग के कोडों में आपके जोखिम के स्‍तर को दिखाता है. यह भी सुझाव देता है कि आपको क्‍या करना चाहिए. अगर आपको ग्रीन में दिखाया जाता है और बताया जाता है कि 'आप सुरक्षित हैं' तो कोई खतरा नहीं है. कोरोना से बचने के लिए आपको सोशल डिस्‍टेंसिंग को बनाए रखना चाहिए और घर पर रहना चाहिए ।

पीला रंग है खतरनाक

अगर आपको पीले रंग में दिखाया जाता है और टेक्‍स्‍ट बताता है कि 'आपको बहुत जोखिम है' तो आपको हेल्‍पलाइन में संपर्क करना चाहिए।

हेल्‍पलाइन नंबर

इसके लिए आपको कोविड-19 हेल्‍थ सेंटर्स बटन पर क्लिक करना होगा और अपने शहर की लोकेशन तक पहुंचने के लिए स्‍क्रॉलडाउन करना होगा ।

सेल्‍फ एसेसमेंट टेस्‍ट

आरोग्‍य सेतु एप पर आप 'सेल्‍फ एसेसमेंट टेस्‍ट' फीचर का इस्‍तेमाल कर सकते हैं. इस फीचर का इस्‍तेमाल करने के लिए ऑप्‍शन पर क्लिक करें और फिर एप चैट विंडो खोल देगा. इसमें यूजर की सेहत और लक्षण से जुड़े कुछ सवाल किए जाएंगे


Share Post



Comment Instructure
आपके Comment का Reply जल्द ही मिल जाएगा आप दोबारा इस पोस्ट पर Visit करके अपने कमेंट का Reply देख सकते हैं